सट्टे और नशे के अवैध कारोबारी लग गये है जमावट में


मंदसौर। पुराने पुलिस कप्तान सुनील पाण्डे सट्टे, जुआं और ढाबों पर बिक रही अवैध शराब और नशे की सामग्री को लेकर इतने सख्त थे कि सम्बंधित थाना क्षेत्रों के सट्टे और नशे के ठिये जो डंके की चोट चलकर आबाद रहते थे वे विरान होने लगे थे इस मामले में उनकी सम्बंधित थानों के टीआई पर भी पूरी पकड़ और हिदायत भी थी, लेकिन उनके जाते ही अब सट्टे तथा नशे के अवैध कारोबारी अपनी सेटिंग और जुगाड़ लगाने को लेकर मुश्तैद हो गये है कुछ जगह तो क्राइम ग्राफ बढ़ाने वाले यह कारनामे शुरू होने की भी खबर है।
सूत्र बताते है मुख्यालय पर जैन कॉलेज क्षेत्र के पीछे झोपड़ पट्टी में किसी अफसर नाम के बंदे ने सट्टे की गतिविधियां जारी कर दी है, इसी तरह मदारपुरा में रिण्डा नामक सटोरिये जिसका मेनेजमेन्ट शहजाद सम्भालता है के पूर्व कप्तान के रहते प्रकरण भी बने थे अब वह भी सक्रिय हो गया है, श्री कोल्ड क्षेत्र, संजीत नाका में बंटी और शेरू और उसके गुर्गे सक्रिय है, बस स्टेण्ड के बगीचे के आसपास भी रिण्डा की चैनल सक्रिय होती बताते है, खानपुरा में वहाब के चर्चे है, इण्डस्ट्रीज एरिया झोपड़ पट्टी और नाहर सैय्यद क्षेत्र में सलीम बच्चा के सट्टे की जमावट जारी है, नीलम शाह क्षेत्र में इमरान नामक, मंडी क्षेत्र में किसी अखिलेश, शेरू की सट्टे की बिसात बिछ रही है।
अवैध शराब के पुराने ठियें हाई वे के कुछ ढाबे माने जाते थे जिन पर जर्बदस्त तरिके से नकेल कसी गई थी कुछ ढाबों में डोडा चूरा व अवैध शराब पिलाने की शिकायते भी पूर्व कप्तान के सामने आई थी जिन पर कार्यवाही भी हुई थी, तब स्थिति यह हो गई थी कि शराब और डोडा चूरा का पानी पिलाने वाले ढाबों के संचालक दड़बों में घुस गये वहां कव्वै उडऩे लगे, जबकि जो सिस्टेमेटिक ढाबे थे वहीं चल रहे थे।
यंग पुलिस कप्तान सक्रिय होती सट्टे और नशे की लॉबी की जमावट जमने से पहले थाना क्षेत्रों के अपने स्टाफ को सक्रिय करेंगे ऐसे मामलों के चलते बढ़ रहे क्राईम का ग्राफ खुद ब खुद गिर जायेगा।