फोरलेन सड़क पर हो रही मौतों के लिए कम्पनी जिम्मेदार कंपनी पर हो हत्या का मुकदमा दर्ज-सिसोदिया कांग्रेस नेताओं ने दिया मल्हारगढ़ एसडीओपी को आवेदन


मल्हारगढ़। लेबड़ से लेकर नयागांव तक फोरलेन सड़क पर हो रही दुर्घटनाओं व मौतों के लिए सड़क निर्माण कम्पनी ही जिम्मेदार है, कम्पनी के ऊपर हत्या का मुकदमा दर्ज करने की मांग को लेकर सोमवार को कांग्रेस नेता परशुराम सिसौदिया के नेतृत्व में सोमवार को कांग्रेस नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल एसडीओपी टीएस पंवार से मिला आवेदन में बताया कि फोरलेन सड़क निर्माण कम्पनी द्वारा फोरलेन निर्माण के दौरान कई खामियां रखी गई जिसके चलते आए दिन सड़क दुर्घटनाए हो रही है, इन मौतों की जिम्मेदार कम्पनी ही है। कांग्रेस ने सड़क निर्माण के दौरान भी कई बार सड़क निर्माण की खामियों को बताया लेकिन उनमें किसी प्रकार का कोई सुधार नहीं किया गया।
फोरलेन पर टू व्हीलर वालो के लिए सड़क नहीं बनाई गई जो कि तीन तीन मीटर सड़क के दोनों साइड बनना थी। इस कारण भी दुर्घटनाएं बढ़ रही है, दो बड़े वाहनों के एक साथ निकलने पर मोटरसाइकिल वाला चपेट में आ ही जाता है। साथ ही फॉर लेन पर कई जगह ब्लैक स्पॉट तो घोषित कर रखे है पर वहां सुधार के लिए कोई मुक्कमल व्यवस्था नहीं की गई। पिपलिया चौपाटी पर हाईमास्ट लाइट के लिए कई बार मांग की गई किन्तु आज तक यह लाइट नहीं लगी है। वही मल्हारगढ़ में भी बस स्टैंड पर आए दिन दुर्घटनाओं में कई व्यक्तियों की मृत्यु हो चुकी है, पुराना बाजार के यहां भी हाईमास्ट लाइट की आवश्यकता है, ऐसे ओर भी कई स्थान है।
सरकार द्वारा विधायको की फोरलेन के रखरखाव को देखने व उसमें सुधार को लेकर एक समिति भी बनाई गई है लेकिन यह समिति भी फोरलेन पर सिर्फ भ्रमण कर अपने कर्तव्यों की इतिश्री कर लेती है, इन्हें सड़क की समस्याओं ओर मौतों से कोई सरोकार नहीं है।
फोरलेन पर हुई दुर्घटनाओं में अभी तक मृत व्यक्तियों व घायलों के परिजनों को फोरलेन निर्माण कम्पनी पर्याप्त आर्थिक सहायता दे।
इस मौके पर मल्हारगढ़ ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष अनिल शर्मा, जिला कांग्रेस के उपाध्यक्ष अजहर हयात मेव, महामंत्री अनिल बोराना, लियाकत मेव, सचिव अरविंद सोनी, नगर कांग्रेस अध्यक्ष विजेश मालेचा, नप के पूर्व उपाध्यक्ष यूसुफ मेव, हाजिद ब्लॉक कांग्रेस महामंत्री अनिल मुलासिया, रामप्रसाद फरक्या, टिंकू बना, मजीद भाई, अंकित कांसल, गोविंद मालवीय, किशोर उणियारा, हेमन्त गुप्ता, नागेश्वर चौहान, डॉ अनिल जैन, वहिद खा आदि मौजूद थे।