42 वर्षों से तीन मुस्लिम बहनें बांध रही हैं दोनों हिन्दू भाईयों को राखी(latest news in hindi danik patallok mandsaur)

नीमच । कहने को रक्षा बंधन कच्चे धागों के संकल्प रक्षा करने का त्यौहार है लेकिन सच्चे मन से जोडा गया रिश्ता कभी नहीं टूटता है। ऐसा ही कर दिखाया है तीन मुस्लिम बहनों ने और दो भाई निश्चल एवं त्रिभुवन जोशी ने बचपन से चले आ रहे इस रिश्ते के इस रक्षाबंधन पर 42 साल पूरे हो गए हैं। नूतन स्कूल में अध्यापक के पद पर सेवारत निश्चल जोषी ने बताया कि 8 वर्ष की आयु में बचपन से ही मूलचंद मार्ग खारीकुआं क्षेत्र निवासी तीनों बहनें चमन बी पत्नी जाकिर हुसैन, सलमा बी पति मुश्ताक हुसैन, आसु बी पति रहीम हुसैन  भोलाराम कम्पाउण्ड स्थित निवास पर आकर राखी बांधती हैं। 8 साल की उम्र में तीनों बहनों ने राखी बांधी थी। बस वह दिन है और आज का दिन है। चाहे कुछ भी हो जाए तीनों बहनें रक्षा बंधन पर कहीं भी हों लेकिन वे राखी बांधने जरूर पहुंच जाती हैं। इस रिश्ते को पिछले साल 42 वर्ष पूर्ण हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि कितनी भी सर्दी-गर्मी, बरसात हो या अन्य कोई कारण, वे इस दिन जरूर पहुंचती है। मुशकिल से एक दो बार ही ऐसा योग बना होगा, जब मुझे राखी बंधवाने जाना पडा हो। निश्चल जोशी की वर्तमान आयु 50 वर्ष है। वे सालों से सहज ध्यान योग केन्द्र से जुडकर समाज सेवा का कार्य करते हैं और नीमच फुटबाॅल टीम में कप्तान रहे और उन्होंने 1994-95 में नीमच जिले से विक्रम विश्वविद्यालय का प्रतिनिधित्व भी किया था।

-परिवार की तरह जुडे हैं सभी सदस्य धर्म मजहब से हटकर इंसानियत को देखना चाहिए। इंसान के बीच प्रेम, सद्भाव है तो धर्म मजहब कहीं भी आडे नहीं आते हैं।