सोयाबीन की फसल पर पिलामोजेक व इल्ली का प्रकोप,लहसुन के भी नही मिल रहे भाव,मदद करो सरकार। बगेर सर्वे के मुआवजा दे सरकार,अनिल शर्मा


मल्हारगढ़। क्षेत्र में कहि अतिवृष्टि व कहि अल्पवर्षा,ने किसानों की कमर तोड़कर रख दी है और मुंह मे आया हुवा निवाला छीन गया है।और शासन, प्रशासन किसानों की मदद करने के बजाय सर्वे सर्वे का खेल खेलकर अपने कर्तव्यों की इतिश्री कर रहा है।
बुधवार को मल्हारगढ़ ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष अनिल शर्मा,कांग्रेस नेता विष्णु रारोतिया,मंडलम अध्यक्ष किशोर उणियारा,भंवर राठौर आदि ने क्षेत्र में खेतों में जाकर सोयाबीन की फसल को देखा व किसानों से चर्चा की किसानों ने बताया कि इस समय हमारी माली हालत काफी खस्ता है, लहसुन ओने पोने दामो में ही बिक रही है,इधर महंगाई दम निकाल रही है। किसान महेश सेन,नागेश शर्मा ने बताया सोयाबीन की फसल पर पिलामोजेक नामक बीमारी से पत्ते पीले पड़ गए है,फलियों में दाना नही आया है इस कारण लागत मूल्य तो दूर की बात और फसल पर खर्च के पैसे जेब से रखना पड़ेंगे।
ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष अनिल शर्मा ने कहा कि किसानों की सरकार होने का ढिढोरा पीटने वाली भाजपा की शिवराज व मोदी सरकार पूंजीपतियों की सरकार है किसान आज सब दूर से परेशान एवं संकट में है, फसलों पर प्रकृतिक आपदा के कारण बाजार की भी रौनक खत्म होती जारही है, व्यापार व्यवसाय भी ठप्प होने की कगार पर है।शर्मा ने कहा कि किसान इधर उधर से पैसे लाकर अपना गुजर बसर कर रहा है,मजदूरों को मजदूरी नही मिल रही है मध्यमवर्गीय परिवार भी प्रभावित है।शर्मा ने सरकार से मांग की है कि जिस तरह से कमलनाथ जी की सरकार ने अतिवृष्टि के समय बगेर सर्वे के किसानों को मुआवजा दिया था शिवराज सरकार भी बगेर सर्वे के किसानों को तत्काल पर्याप्त मुआवजा दे।
इस मौके पर जिला कांग्रेस के सचिव कन्हैयालाल पाटीदार,प्रदीप प्रजापत, टिंकू बना,रमेश गुर्जर खेरखेड़ा,रामेश्वर पाटीदार निनोरा,जेयराम धनगर, चेनराम सिनम,मांगीलाल पाटीदार,सत्यनारायण राठौर,आदि मौजूद थे।