सेवा सुरक्षा समिति ग्रुप मंदसौर द्वारा अनंत चतुर्दशी 1 लाख रूद्राक्ष वितरित(latest news in hindi danik patallok mandsaur)

मन्दसौर । भगवान श्री पशुपतिनाथ महादेव की पावन नगरी मंदसौर (दशपुर) में पूज्य संतों के सानिध्य में अनंत चतुर्दशी के शुभ अवसर पर नगर की प्रमुख संस्था सेवा सुरक्षा समिति ग्रुप मंदसौर द्वारा वैदिक जागृति ज्ञान विज्ञान पीठ हरिद्वार के सानिध्य में अभिमंत्रित एक लाख रुद्राक्ष का निशुल्क वितरण किया गया। भारत माता चौराहा पर आयोजित इस भव्य आयोजन में भक्तों ने कतार में लगकर श्रद्धा के साथ रूद्राक्ष प्राप्त किये।
रूद्राक्ष वितरण समारोह में संत श्री अनंत श्री संपन्न स्वामी चैतन्यानंदजी महाराज वाराणसी, पंडित ज्योतिषाचार्य श्री प्रवीणजी नायक खाचरौद, श्री सन्निष्ठानंदजी महाराज हरिद्वार,  भागवत कथा प्रवक्ता श्री दशरथ भाईजी, अनिता दीदी, गुरूचरण बग्गा का आशीर्वाद प्राप्त हुआ। भव्य मंच पर सांसद सुधीर गुप्ता, नपा अध्यक्ष श्रीमती रमादेवी बंशीलाल गुर्जर, उपाध्यक्ष नम्रता प्रितेश चावला, समाजसेवी दिलीप शर्मा, सुनील बंसल, ब्रजेश जोशी, नरेन्द्र अग्रवाल, अनिल कियावत, अरविन्द सारस्वत, प्रदीप चंदवानी, कपिल भण्डारी, ने भी उपस्थित होकर अपने हाथों से रूद्राक्ष वितरित किये।
यह जानकारी देते हुए ग्रुप के सदस्य श्री विनोद जाट, श्री अंकित माहेश्वरी  ने बताया कि अनन्त चतुर्दशी की रात्रि करीब 9 बजे भूतभावन अष्टमुखी श्री पशुपतिनाथ की प्रतिमा पर उपस्थित संतगणों द्वारा दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। प्रारंभ में संतों ने ऊँ  नमः शिवाय का जाप कर श्रद्धालुओं को रूद्राक्ष वितरित किये। रुद्राक्ष प्राप्त करने के लिये श्रद्धालुओं में गजब का उत्साह देखा गया। भारत माता चौराहा से लेकर घण्टाघर तक कतारबद्ध होकर श्रद्धालुओं ने रुद्राक्ष प्राप्त किये।
प्रारंभ में सभी संतगणों का शाल, श्रीफल भेंटकर सम्मान किया। मंच पर अतिथियों का दुपट्टा पहनाकर स्वागत किया। साथ ही अनन्त चतुर्दशी चल समारोह में निकले अखाड़ों के उस्तादों का भी समिति ने साफा पहनाकर स्वागत किया गया।
इस अवसर पर गौरव शर्मा, शुभम तरवेचा, अशोक पाटीदार, अमरदीप कुमावत, महावीर जैन, पंकज भावसार, श्यामसुंदर विश्वकर्मा, रितेश मतराना, गोपाल राजावत, हरिश टेलर, बंटी चौहान, अनिल शिन्दे, अजय भाटी, राजेश राव मराठा, लोकेन्द्रसिंह ठाकुर, निर्मला गुप्ता, उमा राणा आदि ने इस भव्य आयोजन को सफल बनाया। कार्यक्रम का संचालन विनय दुबेला ने किया एवं आभार अंकित माहेश्वरी ने माना।