बारिश की कमी से ख़राब फसलों का नहीं हुआ अभी तक मल्हारगढ़ तहसील मे सर्वे 

बारिश की लम्बी खेच से किसानों की चिंता बढ़ी तो वहीं फसलों को होने लगा नुकसान

बारिश की कमी से ख़राब फसलों का नहीं हुआ अभी तक मल्हारगढ़ तहसील मे सर्वे 

पिपल्या जौधा तहसील के अंतर्गत बारिश की लबी खेंच से किसान हुए चिंतित, अंतिम समय मे बारिश की लम्बी खेंच से किसानो के मुँह का निवाला छिना जा रहा है देखा जाये तो मल्हारगढ़ क्षेत्र मे जहाँ जहाँ ऊंचे ढूंगरीव ढलान वाले खेत है वहाँ पर पूरी तरह से सोयाबीन की फसल नष्ट हों चुकी है जानकारी अनुसार हिंगोरिया छोटा से दशरथ सिंह राजपूत का कहना है की गाँव मे बारिश की लम्बी खेंच के बाद मेरी सोयाबीन तक़रीबन एक हेक्टेयर की फसल पूरी तरह नष्ट हों चुकी है मगर मल्हारगढ़ प्रशासन द्वारा अभी तक कोई जनप्रतिनिधि, हल्का पटवारी मोके पर सोयाबीन की फसल गिरदावरी करने नहीं आया है जिससे किसानो मे आक्रोश देखने को मिल रहा है व बारिश की लम्बी खेंच से किसान काफ़ी परेशान हों रहे है वही हिंगोरिया छोटा से किसान गोकुल सिंह का कहना है की मेरी सोयाबीन की फसल जिसका रकबा तक़रीबन पांच बीघा से ज्यादा है वो भी फसल पूरी तरह से नष्ट हों चुकी है, हिंगोरिया छोटा से किसान दयालसिंह जिनकी फसल तकरीबन एक हेक्टेयर की सोयाबीन की फसल नष्ट हों चुकी है,हिंगोरिया छोटा से किसान भवरसिंह पिता किशनसिंह जिसकी ढाई बीघा की सोयाबीन पूरी तरह नष्ट हों चुकी है हिंगोरिया छोटा से किसान दुर्गा सिंह की एक हेक्टेयर की सोयाबीन की फसल नष्ट हों चुकी है किसान आनंद कुँवर की सोयाबीन की फसल ढाई हेक्टेयर पूरी तरह नष्ट हों चुकी है, हिंगोरिया छोटा से किसान बगदुसिंह की एक हेक्टेयर की सोयाबीन की फसल नष्ट हों चुकी है, किसान मदन सिंह झाला हिंगोरिया छोटा की सोयाबीन की फसल जो की तीन हेक्टेयर है वो भी पूरी तरह से नष्ट हों चुकी है इसी तरह मल्हारगढ़ तहसील के गाँव हाथीबोलिया से किसान गोपाल डांगी, अमरसिंह, प्याराजी, घोमालाला डाँगी, ने बताया कि गाँव में कई किसानों की सोयाबीन फसल को बारिश की कमी से नुकसान हुआ है पर अबतक शासर कि तरफ से कोई फसल नुकसानी का आकलन नहीं कराया गया है इसी तरह गोपाल पूरा से किसान छगनलाल चौहान की पुरी फसल नष्ट हों चुकी है पर प्रशासन ने आबतक कोई सर्वे नहीं कराया है  इसी तरह मल्हारगढ़ तहसील के राणायरा से किसान मांगूसिंह बोराणा का कहना है की सरकार ने अभी तक बारिश की लम्बी खेंच से सोयाबीन की ख़राब फसलों का अवलोकन के लिए मन्दसौर कलेक्टर व आला अधिकारी को निर्देशित नहीं दिया है ओर ना ही मंदसौर कलेक्टर द्वारा भी अभी तक कोई आदेश जारी नहीं किया है जिससे ग्रामीण क्षेत्रो मे ख़राब फसलों से किसान काफ़ी चिंतित हों रहे है मल्हारगढ़ तहसील के रतन पिपलिया, पिपल्या जौधा, नापाखेड़ा, राणायरा, लिम्बावास, मगराना, बांसखेड़ी, गरनाई, बिल्लोद, टकरावद, खड़पाल्या, गायरिखेड़ा, हिंगोरिया छोटा व आसपास के गाँवो मे बारिश की लम्बी खेंच से सोयाबीन फसल ख़राब हुईं है मगर अभी तक किसी जनप्रतिनिधि ने ईसकी सुध  नहीं ली है किसान गोकुलसिंह हिंगोरिया छोटा, दशरथ सिंह हिंगोरिया छोटा, दयाल सिंह हिंगोरिया छोटा, भंवर सिंह पिता किशन सिंह हिंगोरिया छोटा, दुर्गा सिंह हिंगोरिया छोटा, आनंद कुंवर हिंगोरिया छोटा, बगदु सिंह हिंगोरिया छोटा, मदन सिंह झाला हिंगोरिया छोटा, गोपाल डांगी हाथी बोलिया, अमरसिंह डांगी हाथी बोलिया, छगनलाल चौहान गोपाल पूरा, गोमालाला गोपाल ने बताया कि सोयाबीन की फसले बारिश की लम्बी खेंच के चलते ख़राब हों चुकी है  जिसको लेकर किसानो ने  मन्दसौर कलेक्टर महोदय से माँग है की है कि जल्द से जल्द सोयाबीन की फसलों मे हुए नुकसान का सर्वे कराये ओर हल्का पटवारीयों को निर्देशित कर किसानों को हुई क्षति का आकलन कर उचित मुआवजा दिलाये जाये!