नए संकल्प, नए उत्साह, नई उमंग से शुरू हुआ 2022 का पहला दिन

मंदसौर। नववर्ष के पहले दिन शनिवार सुबह से ही लोगों ने धर्मस्थलों पर पहुंचकर नए साल में नई ऊर्जा की प्रार्थना की। शहर की जन-जन की आस्था के प्रमुख केंद्र श्री पशुपतिनाथ महादेव मंदिर सहित सभी प्रमुख मंदिरों में भक्तों का तांता लगा रहा। दिनभर में करीब पांच हजार श्रद्धालुओं ने भोलेनाथ के दर्शन किए। इधर खानपुरा सित शनि मंदिर, संजीत रोड स्थित खाटू श्याम मंदिर, तलाई वाले बालाजी मंदिर, गणपति चौक स्थित द्विमुखी चिंताहरण मंदिर सहित अन्य मंदिरों में भी भक्त पहुंचे। साथ ही बधाईयों का दौर भी सुबह से ही शुरु हो गया।
शनिवार सुबह से ही मौसम ठीक नहीं होने के बावजूद लोग एक-दूसरे को अंग्रेजी नववर्ष की बधाई देते रहे। किसी ने गले मिलकर तो किसी ने चरण स्पर्श कर नए साल की शुभकामनाएं दी। ठंड होने के बाद भी सुबह उठकर मंदिरों में दर्शन करने भी गए। खासकर मंदसौर के प्रसिद्ध श्री पशुुपतिनाथ महादेव मंदिर, श्री तलाई वाले बालाजी मंदिर, श्री बड़े बालाजी मंदिर बस स्टैंड, गणपति चौक में श्री द्विमुखी चिंताहरण गणपति मंदिर, श्री नालछा माता मंदिर सहित सभी प्रमुख मंदिरों में भक्तों का तांता लगा रहा। शहर की आस्था के केंद्र पशुपतिनाथ मंदिर में शनिवार को दिनभर में हजारोंं ने दर्शन कर सुख-समृद्धि की प्रार्थना की। दिनभर कार्यालयों में व मोबाइल पर लोग एक-दूसरे को नववर्ष की बधाई देते रहे। व्हॉट्स एप, फेसबुक व अन्य सोशल साइटों पर भी बधाइयों का आदान-प्रदान होता रहा। शाम को घरों में लोगों ने हलवा, पकोड़े व तरह-तरह के व्यंजनों का आनंद लिया।
उत्साह पर पाबंदियां भारी
ठंड के बावजूद शुक्रवार रात नए साल के स्वागत के लिए युवाओं का जोश कम नहीं हुआ। लेकिन पाबंदियों के बीच नववर्ष का स्वागत करना पड़ा। नाईट कफ्र्यू के चलते दस बजे ही रेस्टोरेंट बंद करने के निर्देश जारी हो चुके हैं। इसके चलते रेस्टोरेंट पर हर बार की तरह रौनक नजर नहीं आई। लेकिन लोगों ने घरों में ही केक काटकर विभिन्न पकवानों के साथ नववर्ष का स्वागत किया।