त्याग और समर्पण से ही रामराज्य संभव – संतश्री चिन्मयानन्दजी बापूआज कथा में मनाया जायेगा राम जन्मोत्सव(latest news in hindi danik patallok mandsaur)


आज कथा में मनाया जायेगा राम जन्मोत्सव
मंदसौर। 30 अगस्त से नगर के नयापुरा रोड स्थित माहेश्वरी धर्मशाला में संत श्री चिन्मयानन्दजी बापू की 523वीं कथा प्रारंभ हुई थी कथा के दूसरे दिन 31 अगस्त को मुख्य अतिथि के रूप में अभा विद्यार्थी परिषद की जिला एवं नगर की कार्यकारिणी उपस्थित रही अतिथियों के साथ समिति सदस्यों ने बापूजी से आशीर्वाद प्राप्त कर आरती उतारी। विश्व कल्याण मिशन ट्रस्ट मंदसौर शाखा द्वारा कथा का आयोजन मंदसौर नगर में करवाया जा रहा है। कथा का श्रवण करने मंदसौर नगर सहित आस पास के ग्रामीण क्षेत्रों से भक्तगण पधार रहें है।
धर्मसभा में पपू संतश्री चिन्मयानन्दजी बापू ने कहा कि त्याग और समर्पण की भावना से ही राम राज्य की परिकल्पना संभव हो सकती है और हम इस रास्ते पर भी चल रहे है। आपने बताया कि जब भगवान श्रीराम अपने पिता के वचन के कारण वनवास को गये तो भरत उनसे मिलने पहुंच और वापस चलने का आग्रह किया अब श्री राम ने उन्हंे कहा कि जिस पिता ने अपने वचन के खातिर अपने प्राणों की आहूति देदी ऐसी त्याग और समर्पण वाले पिता कि हम संतान कैसे उनका वचन तोड दे तुम जाओं और राज्य संभालों। संतश्री ने कहा कि आज ऐसी ही भावनाओ की जरूरत है भाई, भाई से लडे नहीं जबकि उसके लिए खडा रहे।
कथा मे संतश्री ने कहा कि अंग्रेज जरूर भारत छोडकर 75 साल पहले जा चुके है लेकिन वो हमारी मानसिकता में ऐसा जहर घोल गये है जिससे हम बाहर नहीं आ रहे। हमारी संस्कृति परंपराओं को नष्ट करने का षडयंत्र किया जा रहा है। आपने कहा कि फिल्मो के माध्यम से, गलत इतिहास के कारण, कभी पत्र पत्रिकाआंे के माध्यम से सनातन संस्कृति को खत्म करने के प्रयास किये जा रहे है जिनसे हमें बचना चाहिए। हमारे विचारों को शुद्ध करने व हमारी संस्कृति को समझने के लिए हमें कथाओं का श्रवण करना चाहिए।

आज मनाया जायेगा राम जन्मोत्सव
समिति के अनिल गुप्ता, नरेन्द्र अग्रवाल, विनय दुबेला ने बताया कि आज राम कथा में राम जन्मोत्सव मनाया जायेगा। समिति ने नगर की धर्मप्रेमी जनता से अधिक से अधिक संख्या में राम जन्मोत्सव में पधारने का निवेदन किया है।