घर घर पहुंचे विघ्नहर्ता, शहर में उत्साह,लड्डुओं की पौ बारह(latest news in hindi danik patallok mandsaur)

मंदसौर। गणेश चतुर्थी पर्व को लेकर बुधवार को शहर सहित जिले भर में उत्साह रहा। शहर के प्रमुख बाजार हो अथवा गली मोहल्ले, हर जगह ढोल-ढमाकों, बाजे-गाजे व डीजे साउंड की धुन पर थिरकते युवा व महिलाएं गुलाल उड़ाते हुए विभिन्न मुद्राओं की गणेश प्रतिमाओं को पांडालों व घरों तक ले गए। विघ्नहर्ता ने कहीं ट्रैक्टर पर तो कहीं टैक्सी पर, कहीं बैलगाड़ी पर तो कहीं बाईक पर बैठ शहर भ्रमण किया। इस दौरान पूरा वातावरण गणपति बप्पा… मोर्या, जय देवा… श्री गणेशा जैसे जयकारों से गुंजायमान रहा। आज गर्मी अधिक थी, लेकिन लोगो का उत्साह कम नहीं हुआ, वे भीगते हुए नाचते-गाते भगवान की प्रतिमाएं गंतत्व स्थल तक ले गए। मंगलमुहूर्त में विघ्नहर्ता भगवान गणेश को विराजित कर विधि-विधान से पूजा-अर्चना कर आरती की। इसके साथ ही 11 दिवसीय गणेशोत्सव की शुरुआत हुई।

गतवर्ष की तुलना में दुगुनी बिकीं प्रतिमाएं

गुरुवार को दिनभर प्रतिमाओं की खासी बिक्री हुई। एक अनुमान के मुताबिक गतवर्ष की तुलना में दुगुनी प्रतिमाएं बिकीं। इसका कारण था दो साल से कोरोनाकाल में कई प्रतिबंधों के बीच गणेशोत्सव मना। दाम की बात करें तो 50 रुपए से लेकर 70 हजार तक की प्रतिमाएं शामिल थी। इसके साथ ही पूजा-अर्चना के लिए फूल, मालाएं, दुर्वा, नारियल, लड्डू, चुनरी सहित अन्य सामग्रियां भी खूब बिकी। शहर के गोल चौराहा, नगरपालिका कार्यालय परिसर, आजाद चौक, सम्राट मार्केट, कालाखेत, बड़ा चौक, शुक्ला चौक, केन्द्रीय सहकारी बैंक, संजीत नाका क्षेत्र, रामटेकरी स्थित पांडालों में आकर्षक विद्युत साज-सज्जा की गई। शहर में करीब 200 से अधिक सार्वजनिक स्थानों पर भगवान गणेश की प्रतिष्ठा की गई। गणेशजी के प्रिय मोदक व लड्डुओं की शहर की मिठाई दुकानों पर जमकर बिक्री हुई।

गणपति मंदिर में हुआ हवन

जनकुपूरा गणपति चौक स्थित श्री द्विमुखी चिंताहरण गणपति मंदिर में गणेश चतुर्थी पर हवन, पूजन और वैदिक मंत्रोच्चार के साथ गणपति स्थापना की गई। गणेशोत्सव के तहत 11 दिनों तक महाआरती के साथ ही भगवान का आकर्षक श्रृंगार किया जाएगा। गणेश चतुर्थी पर शुभ मुहूर्त में हवन-पूजन और पूर्णाहूति के साथ ही स्थापना की। दोपहर में हवन प्रारंभ हुआ। इसके बाद हवन के पूर्णाहूति व महाआरती हुई। कागदीपुरा स्थित श्री चिंतामणी गणेश मंदिर परभी दोपहर में जन्म महोत्सव की महाआरती हुई। बाद में धर्मालुजनों ने विशेष श्रृंगार के दर्शन किए।

बाजार में रही भीड़

शहर के बाजारोंं में खासकर बीपीएल चौराहा से गांधी चौराहा मार्ग तक दिनभर गणेश प्रतिमा खरीदारों की भीड़ रही। कोई ढोल की थाप पर नाच रहा था तो कोई बैंड-बाजों के साथ गणेश प्रतिमा को प्रतिमा स्थल तक ले जाने की तैयारी कर रहा था। कोई फूल मालाएं तो कोई पूजन सामग्री खरीदने में व्यस्त था। शाम  तक प्रतिमाएं खरीदने का दौर जारी था। दिनभर ढोल-ढमाकों की थाप के साथ बप्पा को ले जाया गया।