गनेडीवाल ट्रस्ट द्वारा अब दिव्यांगों को सशक्त बनाने का मिशन…

दो दिवसीय शिविर का आयोजन होगा

शिविर में १८० दिव्यांगों को कृत्रिम पैर, बैसाखी, कैलीपर होंगे वितरित

बैट्री चलित ट्राईसिकल देने के लिए जरुरतमंद दिव्यांगों को भी किया चयनित

मंदसौर। गनेड़ीवाल चेरिटेबल ट्रस्ट मानव सेवा को लेकर लंबे समय से अग्रसर है । कोरोनाकाल की विकट परिस्थितियां हो या महिला सशक्तिकरण या मानव सेवा सदैव जरुरतमंदों के लिए ट्रस्ट निरंतर अहम भूमिका निभाता आ रहा है । पिछले समय
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ट्रस्ट की सेवाओं की प्रशंसा कर चुके हैं।

ट्रस्ट ने महिलाओ (आधी आबादी) को आत्मनिर्भर बनाने के साथ ही दिव्यांगों को सशक्त बनाने का भी संकल्प लिया है। जरुरतमंद दिव्यांगों के लिए भी गनेड़ीवाल चेरिटेबल ट्रस्ट निरंतर कार्य कर रही है जिसके चलते इस कड़ी में
एक और शिविर का आयोजन होने जा है, जिसमें १८० दिव्यांगों को कृत्रिम पैर (आर्टिफिशियल बॉडी पार्ट ) सहित अन्य संसाधन निशुल्क उपलब्ध कराए जाएगे। चयनित हितग्राही दिव्यांगों को बैट्री चलित ट्राईसिकल भी ट्रस्ट शिविर में प्रदान करेगा । इस तरह
गनेड़ीवाल ट्रस्ट द्वारा दो दिवसीय शिविर का आयोजन किया जाएगा । यह शिविर २७ और २८ अगस्त को आयोजित होगा। शिविर के शुभारंभ में विधायक यशपालसिंह सिसौदिया, जिला पंचायत अध्यक्ष दुर्गा पाटीदार, नपाध्यक्ष रमादेवी गुर्जर, कलेक्टर गौतमसिंह, पुलिस कप्तान अनुराग सुजनिया व ट्रस्ट के संस्थापक अध्यक्ष प्रदीप गानेडीवाल उपस्थित रहेगे।
शिविर में १८० दिव्यांगों को कृत्रिम पैर, बैसाखी, कैलीपर वितरित किए जाएगे। शिविर में करीब बीस लाख रुपए के संसाधन दिव्यांगों को वितरित होगे। इसके अलावा संस्था द्वारा बैट्री चलित ट्राईसिकल देने के लिए जरुरतमंद दिव्यांगों को भी चयनित किया गया है। एक ट्राईसिकल की कीमत चालिस हजार रुपए है। करीब पांच लाख की ट्राईसिकल निशुल्क वितरित की जाएगी।
ट्रस्ट द्वारा मानव सेवा के इस मिशन में सुझाव देने की भी अपील की जा रही हैं।