NEWS :

राहुल गांधी होंगे PM उम्मीदवार ? तेजस्वी यादव ने दिया यह जवाब…

नई दिल्ली: बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने कहा कि विपक्षी पार्टियों में पीएम बनने के लिए बहुत सारे उम्मीदवार हैं. NDTV से बात करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ मिलकर वह भारतीय जनता पार्टी और उसकी सरकार से लोकतंत्र और संविधान को बचाने का काम कर रहे हैं. जब उनसे पूछा गया कि क्या 2019 में राहुल गांधी पीएम पद के उम्मीदवार होंगे. तेजस्वी यादव ने कहा कि विपक्ष में पीएम के कई कैपेबल उम्मीदवार हैं.

तेजस्वी यादव ने कहा कि आरएसएस और बीजेपी के लोग जब तक रहेंगे तब तक संविधान को खतरा रहेगा. उन्होंने कहा कि उनके केंद्रीय मंत्री बयान दे चुके हैं कि हम तो संविधान को बदलने आए हैं. आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत भी बार-बार कहते रहते हैं कि आरक्षण को खत्म कर देना चाहिए. जिस प्रकार से सेंट्रल एजेंसियों का इन लोगों ने दुरुपयोग किया है वह बहुत ही गलत है. तेजस्वी ने कहा कि सभी यूनिवर्सिटी में आरएसएस के ‘एजेंट’ चांसलर बने हुए हैं. ये पूरी तरह से देश पर खतरा है. इसलिए हम चाहते हैं कि हम राहुल गांधी के साथ मिलकर काम करें.

तेजस्वी से जब यह सवाल पूछा गया कि क्या राहुल गांधी पीएम के चेहरे के लिए मायावती, अखिलेश यादव, ममता बनर्जी को मंजूर होंगे ? इस पर तेजस्वी ने कहा कि जब यूपीए-1 और यूपीए-2 बना तब भी मनमोहन सिंह का नाम पहले नहीं आया था. बाद में सबने मिलकर गठबंधन बनाया और 10 साल तक सरकार चली. तेजस्वी ने कहा कि अभी तक प्रधानमंत्री उम्मीदवार का दावा आधिकारिक रूप से किसी ने भी नहीं किया है, हालांकि राहुल गांधी ने यह कहा है कि अगर उनकी पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बनती है तब वह दावा पेश करेंगे.

उन्होंने कहा कि मेरे ख्याल से अगर कोई भी राजनीतिक पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बनती है तब तो वह दावा करेगी ही करेगी. लेकिन अगर आप विपक्ष में देखें तो कई ऐसे बड़े चेहरे हैं, जो पीएम पद के लिए कैपेबल हैं, लेकिन अभी तक आधिकारिक रूप से किसी ने भी दावा पेश नहीं किया है.

तेजस्वी ने कहा कि पीएम का उम्मीदवार अभी सेकेंडरी सवाल है. पहला सवाल यह है कि देश को बचाना है, संविधान को बचाना है. बीजेपी से लोग त्रस्त हो चुके हैं. मोदी जी ने जो प्रॉमिस किया था उसे पूरा नहीं किया है. मोदी जी फिटनेस की बात करते हैं, मैं उन्हें चैलेंज करता हूं कि उन्होंने 2 करोड़ युवाओं को हर साल रोजगार देने का दावा किया था, लेकिन वह इसका चैलेंज वह स्वीकार नहीं करते. वह ज्यादातर भाषण विदेशों में देते हैं, तो वह काम कब करते हैं.

patallok

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account