NEWS :

मेरी मां दूसरों से कहीं ज्यादा भारतीय: सोनिया की मातृभाषा के बारे में मोदी की टिप्पणी पर राहुल का जवाब

सिद्दारमैया इस बार दो विधानसभा सीटों चामुंडेश्वरी और बादामी पर चुनाव लड़ रहे हैं।

बेंगलुरु.राहुल गांधी और नरेंद्र मोदी ने कर्नाटक विधानसभा चुनाव प्रचार के आखिरी दिन गुरुवार को राज्य की 51 सीटों पर असर डालने वाले एससी/एसटी की बात की। मोदी ने कहा कांग्रेस दलितों के लिए कुछ नहीं करती। जवाब में राहुल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में पूछा कि मोदी दलितों का मुद्दा क्यों नहीं उठाते? इस दौरान उन्होंने मोदी, केंद्र सरकार और भाजपा के मुख्यमंत्री उम्मीदवार येद्दियुरप्पा पर हमला बोला। राहुल ने सोनिया गांधी की मातृभाषा के बारे में पीएम की टिप्पणी पर भी जवाब दिया। उन्होंने कहा कि मेरी मां इटैलियन हैं, लेकिन जिंदगी का ज्यादा वक्त भारत में बिताया। मेरी मां दूसरे लोगों से ज्यादा भारतीय है।” दरअसल, 1 मई को राहुल के 15 मिनट संसद में बोलने देने के जवाब में मोदी ने चामराजनगर कहा था कि ”मोदी जी को छोड़ो। मैं आपसे कहता हूं कि आप कर्नाटक के चुनाव प्रचार में 15 मिनट बगैर कागज हाथ में लिए हिंदी, अंग्रेजी या अपनी मां की मातृभाषा में बोल के दिखा दीजिए।”

प्रधानमंत्री आप पर निजी हमले कर रहे हैं,आपसे अपनी मातृभाषा में बोलने के लिए कह रहे हैं?

राहुल: “हां। प्रधानमंत्री ने जिस तरह के निजी हमले किए क्या वह एक संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति को शोभा देता है? मैंने उनसे सवाल पूछे, जवाब में उन्होंने निजी वार किए। यह कौन से स्तर की राजनीति है? मेरी मां इटैलियन हैं, लेकिन जिंदगी का ज्यादा वक्त भारत में बिताया। उन्होंने इस देश के लिए त्याग किया है। उन्होंने मुसीबतों का सामना किया है। मेरी मां दूसरे लोगों से ज्यादा भारतीय है।”

– मोदी ने कहा था, “लोकतंत्र में हम नेता और नागरिकों की बातों को गंभीरता से लिया जाता है। कांग्रेस अध्यक्ष ने हाल ही में मुझे एक चुनौती। उन्होंने कहा कि अगर मैं संसद में 15 मिनट भी बोलूंगा तो मोदी जी बैठ नहीं पाएंगे। वे 15 मिनट बोलेंगे, ये भी एक बड़ी बात है और मैं बैठ नहीं पाऊंगा। कांग्रेस अध्यक्ष जी आप नामदार हैं और हम कामदार हैं। हम तो अच्छे कपड़े भी नहीं पहन सकते, आपके सामने कैसे बैठेंगे। हम लोगों ने नामदारों के जुल्म झेले हैं और आज इस ताकत को बढ़ाते चले जा रहे हैं।”

– ”मोदी जी को छोड़ो। मैं आपसे कहता हूं कि आप कर्नाटक के चुनाव प्रचार में 15 मिनट बगैर कागज हाथ में लिए हिंदी, अंग्रेजी या अपनी मां की मातृभाषा में बोल के दिखा दीजिए।”

– “एक बात और इस 15 मिनट के भाषण में 5 बार श्रीमान विश्वेश्वरैया का नाम ले लेना। कर्नाटक की जनता तय कर लेगी, उन्हें क्या करना है।”

मोदी ने कल कहा था कि आपने विपक्ष के नेताओं से सलाह-मशविरा किए बिना खुद को प्रधानमंत्री उम्मीदवार घोषित कर दिया
राहुल: यह चुनाव मेरे लिए नहीं है। यह चुनाव प्रधानमंत्री के लिए नहीं है। यह चुनाव कर्नाटक के लिए है। मेरा मानना है कि इस मुद्दे पर बात करना कर्नाटक के लोगों के साथ धोखा है। प्रधानमंत्री कर्नाटक के किसानों, बेरोजगारों, आईटी सिटी, गार्डन सिटी के बारे में बात नहीं करते। निजी हमले करते हैं।

9 मई को बंगारपेट की रैली में मोदी ने कहा था- “ टैंकर के लिए लोग लाइन से बाल्टी लगाते हैं। लेकिन दबंग लोकतंत्र को नहीं मानता। वह छाती तानकर अपनी बाल्टी पहले रख देता है। कल ऐसा ही हुआ। नामदार ने कतार में अपनी बाल्टी पहले रख दी।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस दलितों का मुद्दा उठाती है, लेकिन करती कुछ नहीं है
राहुल:दलितों के मुद्दे पर पीएम चुप क्यों हैं। पीएम दलितों का मुद्दा क्यों नहीं उठाते। प्रधानमंत्री ऊना के मुद्दे पर क्यों नहीं बोलते। हमने कहा दलितों को मारा जा रहा, पीटा जा रहा है। रोहित वेमुला को मारा गया तब प्रधानमंत्री कुछ नहीं बोले। दलितों के मुद्दे तो उठाएंगे। यह हमारा काम है।

डोकलाम के मुद्दे पर आपका क्या कहना है?
राहुल: मोदी बिना मुद्दे चीन गए। वहां के प्रधानमंत्री के साथ खाना खाया डोकलाम पर एक शब्द नहीं बोले। वो वहां बिना एजेंडा गए थे। मोदी विदेश नीति का इस्तेमाल खुद के लिए कर रहे हैं।”

भाजपा और प्रधानमंत्री राज्य की कांग्रेस सरकार पर करप्शन के आरोप लगा रहे हैं?

राहुल: हमने कर्नाटक के लिए मनरेगा की तरफ से 35 हजार करोड़ रुपए आवंटित किए। बीजेपी के रेड्डी ब्रदर्स ने इतने ही पैसों का गबन कर लिया। बीजेपी ने ऐसे लोगों को टिकट दिया है। बीजेपी के सीएम उम्मीदवार

येदियुरप्पा भ्रष्टाचार के आरोप में जेल जा चुके हैं।”

– “मोदी सब तरह की बात करते हैं, लेकिन युवाओं पर नहीं बोलते, दो करोड़ नौकरियों पर बात नहीं करते।

कर्नाटक चुनाव के दौरान आप कई मठ और मंदिर गए। क्या आपको लगता है इस चुनाव में हिंदुत्व एक मुद्दा है?
राहुल: भाजपा हिंदू का मतलब नहीं जानती। मेरे मंदिर जाने से बीजेपी को दिक्कत होती है।

कांग्रेस ने दलितों के लिए कुछ नहीं किया

– नरेंद्र मोदी ने गुरुवार सुबह ऐप के जरिए कर्नाटक भाजपा के ओबीसी/एससी/एसटी कार्यकर्ताओं से बात की। इस दौरान उन्होंने कहा- “ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा मिले, हमने इसके लिए कोशिशें की हैं। कांग्रेस ने इस बारे में सोचा तक नहीं और वह वोट बैंक की राजनीति करती रही है। वह संसद को चलने नहीं दे रही है। कांग्रेस के दिल में दलितों और पिछड़ों के लिए कोई जगह नहीं है।”

– “बीजेपी के पास सबसे ज्यादा एससी/एसटी, ओबीसी और अल्पसंख्यक समुदाय के सांसद हैं। हमारी सरकार ने एससी/एसटी को ज्यादा मजबूत बनाया है।”

– “हम अंबेडकर के मजबूत सपनों और समृद्ध राष्ट्र के सपनों को पूरा करने की कोशिश कर रहे हैं। कांग्रेस ने कभी अंबेडकर का सम्मान नहीं किया। कांग्रेस जब सत्ता में थी, तब भारत रत्न भी नहीं दिया।”

– “संविधान सभा की पहली बैठक के कुछ दिन बाद ही बाबा साहेब ने कहा था- इस देश का सामाजिक-आर्थिक विकास आज नहीं तो कल होगा। दुनिया की कोई भी ताकत इस देश की एकता के आड़े नहीं आ सकती।”

patallok

leave a comment

Create Account



Log In Your Account