NEWS :

मंत्रिमंडल का गठन होते ही विरोध शुरू

मंदसौर। मध्यप्रदेश के मुख्य मंत्री कमलनाथ में अपना कारवां चुन लिया, उनके कारवा में 28 मंत्री बनाए गए जिनमें से 10 पुराने और 18 नए किंतु कई ऐसे विधायकों को मंत्री नहीं बनाया जो कि मंत्री के लायक थे।
क्षेत्रीय संतुलन की बात तो करते हैं पर क्षेत्रीय संतुलन पूरी तरह साधा नहीं गया वहीं कई योग्य विधायकों को भी मंत्री पद से नवाजा नहीं गया, यहां तक की सपा, बसपा और निर्दलीय विधायकों को मंत्री नहीं बनाया जिनके दम पर सरकार बनी हैं।
कांग्रेस के भी कई विधायक मंत्री पद से वंचित रह गए, जिससे विरोध तेज हो रहा है मंत्रिमंडल के गठन में मंदसौर संसदीय क्षेत्र में एकमात्र विधायक जो मोदी सुनामी में उज्जैन संभाग में सुवासरा की सीट बचाने में कामयाब रहे थे, उन्हें भी मंत्री नहीं बनाया। गठन के पूर्व तक यह तय था की एकमात्र सिख समुदाय से आने वाले कांग्रेस के विधायक हरदीपसिंह डंग को मंत्री बनाया जाएगा किंतु अंतिम समय में सूची में उनका नाम नदारद था, जिससे उनके समर्थकों की भावनाएं आहत हुई है, कई संगठनों ने मुख्यमंत्री को फैक्स मेल भेजकर के हरदीप सिंह डंग को मंत्री बनाने की मांग की हैं, वहीं एदल सिंह कंसाना समर्थकों ने भी रोड जाम की और कंसाना शपथ विधि समारोह में भी नहीं गए और उन्होंने अपना मोबाइल का भी स्विच ऑफ कर लिया, हीरालाल अलावा जयस से जीते और उन्हें भी मंत्री नहीं बनाया गया जबकि पहले उन्हें मंत्री बनाने का वादा कमलनाथ ने किया था। उन्होंने भी अपना विरोध दर्ज कराने के लिए राहुल गांधी से मिलने का समय मांगा है।
इसी प्रकार समाजवादी पार्टी के एकमात्र विधायक बबलू शुक्ला को भी मंत्री नहीं बनाया जिसे लेकर अखिलेश यादव ने अपना गुस्सा जगजाहिर कर दिया कि कांग्रेस ने हमारे विधायक को मंत्री नहीं बना कर हमारी राह आसान कर दी है, वही बसपा के दोनों विधायकों को मंन्त्री नही बनाया जिससे विरोध के स्वर तेज हो रहे हैं। मंत्रिमंडल में अजय सिंह के समर्थक को भी मंत्री नहीं बनाया गया और यही स्थिति पचोरी समर्थकों की रही इस कारण से यह दोनों भी मंत्रिमंडल की शपथ विधि समारोह में नहीं पहुंचे।

patallok

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account