किसान और चौकीदार के बेटे बने प्रदेश के टॉपर

मंदसौर। आज पूरे प्रदेश का साथ ही जिले का दसवीं बारहवीं का रिजल्ट घोषित कर दिया गया आश्चर्य तब हुआ जब 500 में से 499 नंबर प्राप्त करने वाले दोनों ही छात्र भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर जैसे महानगरों का नहीं बल्कि सागर जिले के छोटे से विद्यालय से आते हैं।
आयुष्मान ताम्रकार एक गांव के चौकीदार का बेटा है जो कभी किसी ट्यूशन पर नहीं गया, किसी कोचिंग में नहीं गया विद्यालय में पढऩे के बाद वह कभी-कभी अपने पिताजी के काम चौकीदारी का काम भी पिताजी की अनुपस्थिति में करता था और गर्मी की छुट्टियों में जहां सभी छात्र छात्राएं हिल स्टेशन पर घूमने जाते हैं वह अपनी फीस के जुगाड़ के लिए किराने की दुकान पर नौकरी करता था ,घर के काम में भी बटाने के बाद शेष समय में वह अपनी पढ़ाई भी करता था और खुद मेहनत पर उसने पढ़ाई करके और 500 में से 499 नंबर प्राप्त किए यह खबर प्रदेश के हाईप्रोफाइल स्कूलों,हाई प्रोफाइल कोचिंग सेंटर के लिए शौक करने वाली है कि प्रतिभाएं जो दसवीं में टॉपर बनी है दोनों ही प्रतिभाएं ग्रामीण क्षेत्रों से आते हैं और कभी किसी कोचिंग सेंटर पर नहीं गए, ट्यूशन नहीं ली और स्वयं के बलबूते पर उन्होंने अपनी राह बनाई और 500 में से 499 प्राप्त कर कोचिंग सेंटर को आईना बता दिया कि प्रतिभाएं नैसर्गिक होती है जन्मजात होती है वह किसी की मोहताज नहीं होती, अभाव में भी हीरे अपनी चमक नहीं खोते हैं अपनी चमक वे समय आने पर दुनिया को दिखा देते हैं ऐसी चमक प्रदेश के दोनों स्टूडेंट ने दिखाई है।
दूसरे टॉपर रहे गगन दीक्षित ने 500 में से499 अंक प्राप्त गगन किसान का बेटा हैं,इससे लगता है कि प्रतिभा अच्छे फाइव स्टार स्कूल, फाइव स्टार बिल्डिंग, फाइव स्टार ड्रेस, ट्यूशन, कोचिंग की मोहताज नहीं है गगन कभी ट्यूशन कोचिग नही गये सबसे बड़ी बात गगन के बारे में कही जा सकती है कि उन्होंने सेल्फ स्टडी को सबसे बड़ी प्राथमिकता दी और जहां एक और आजकल के प्राथमिक विद्यालय की नर्सरी के बच्चे मोबाइल में गेम खेलते हैं जानकारी रखते हैं और बिना मोबाइल के तो आजकल का जीवन अधूरा हो गया है किंतु सबसे बड़ी आश्चर्यजनक मामला यह है कि गगन मोबाइल का उपयोग करते ही नहीं और यह उन लोगों के लिए सबक है जो अपने बच्चों को एलकेजी यूकेजी से मैं ही मोबाइल थमा देते हैं जिससे उनके ऊपर बजाए पढ़ाई किए पब्जी जैसे कई गेम्स डाउनलोड कर दिशाहीन होते जा रहे हैं और अनुशासन हीन होती पीढ़ी के लिए शिक्षा के क्षेत्र में 1 गगनचुंबी इमारतआयुष्मान और गगन से सबक लिया जा सकता है कि बिना ट्यूशन के बिना कोचिंग के और बिना मोबाइल के किस प्रकार से 500 में से 499 अंक प्राप्त कर टॉपर बना जा सकता है।

कक्षा १०वीं में जिले की प्रावीण्य सूची में शामिल छात्र
क्रं. नाम स्कूल अंक प्राप्त
1 रितिका फुलवानी दिगंबर जैन कन्या स्कूल मंदसौर 488 अंक
2 विकास पाटीदार जागृति हाई स्कूल मल्हारगढ़ 487 अंक
2 शिवानी पाटीदार दलोदा पब्लिक स्कूल 487अंक
3 ज्योति देवड़ा दलोदा पब्लिक स्कूल 486 अंक
कक्षा 12वीं के विभिन्न संकायों में टॉपर विद्यार्थी इस प्रकार हैं
मानवीकिय संकाय
क्रं. नाम स्कूल अंक प्राप्त
1 अंगुरबाला हाई स्कूल बूढ़ा 447अंक
2 अफसाना बी अब्बासी हायर सेकेंडरी बालागंज मंदसौर 445 अंक
साइंस बायो+मैक्स ग्रुप में
क्रं. नाम स्कूल अंक प्राप्त
1 सिद्धांत गुप्ता गवर्नमेंट बॉयज स्कूल नारायणगढ़ 470 अंक
2 श्रद्धा पिपलोद दिगंबर जैन हायर सेकेंडरी स्कूल मंदसौर 465 अंक
3 सुहानी जैन एनएस सिंघवी मंदसौर 462 अंक
कॉमर्स ग्रुप
क्रं. नाम स्कूल अंक प्राप्त
1 मानसी मेहता दिगंबर जैन स्कूल मल्हारगढ 469 अंक
2 स्नेहा मुजावडिय़ा शामगढ़ पब्लिक स्कूल 465 अंक
कृषि संकाय
क्रं. नाम स्कूल अंक प्राप्त
1 अमित पाटीदार सरस्वती शिशु मंदिर केशव नगर मंदसौर 414 अंक

patallok

leave a comment

Create Account



Log In Your Account