NEWS :

कमलनाथ के कानून रासुका का विरोध

खण्डवा। खण्डवा के घोघट ग्राम में गौ हत्या की तीन आरोपियों को सरकार ने रासुका में बंद किया, जिससे कांग्रेस के ही वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम और दिग्विजय सिंह ने इसका विरोध किया है, कमलनाथ हनुमान और गौ भक्त हैं उन्होंने गायों की सेवा के लिए 1000 गौ शालाये 3 माह में खोलने का ही निर्णय लेकर यह सिद्ध कर दिया कि अब गौ माता रोड पर घूमती हुई नहीं मिलेगी, नहीं गाय भूख से या ठंड से या बीमारी से मरेगी, गाय की सेवा और सुरक्षा के लिए उन्होंने गौशालाओं के निर्माण का निर्णय लिया और इसके पालन करने के लिए वे कटिबद्ध है।
गायों की हत्या निषेध है और पहली बार मध्य प्रदेश में 3 आरोपियों को गौ हत्या करने पर रासुका के अंदर बंद किया।
इसे लेकर कांग्रेस के ही वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने कमलनाथ की इस कार्यवाही का विरोध किया है और दिग्विजय सिंह का विरोध भी सामने आया है, पी चिदंबरम का विरोध तो माना जा सकता है कि उनके बेटे कार्ति चिदंबरम और उनके खिलाफ ई डी में जो केस चल रहे हैं उन को कमजोर करने के लिए कांग्रेस में रहकर कांग्रेस को ही विरोध करके और भाजपा की तरफदारी करने का उनका प्लान समझ में आता है, क्योंकि चिदंबरम ना तो मध्य प्रदेश के प्रभारी हैं ना कांग्रेस के प्रवक्ता फिर किस हैसियत से वे मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के कामों पर अपनी टिप्पणी कर रहे हैं यह उनके बयानों से स्पष्ट है।
किंतु दिग्विजय सिंह का विरोध समझ में नहीं आ रहा कि वह कमलनाथ के साथी हैं और कमलनाथ को मुख्यमंत्री बनाने तक उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, उसके बाद भी कमलनाथ के निर्णय का विरोध करना अल्पसंख्यकों में अपनी पैठ बनाने का काम है किंतु जैसा कि वे खुद भी कहते हैं कि उनके बयानों से कांग्रेस के वोटों की कमी होती है यह बयान निश्चित लोकसभा में कांग्रेस को कमजोर करेगा, जैसा कि भाजपा खुद कहती है, कि दिग्विजय सिंह के रहते हुए उन्हें चुनाव में प्रचार की जरूरत नहीं पड़ती दिग्विजय सिंह के बयान की भाजपा को जीता देते हैं और विधानसभा में भी यही हुआ कि उन्हें विधानसभा के प्रचार से दूर रखा गया, वरना आज कांग्रेस की सरकार नहीं बनी होती अगर लोकसभा में भी उन्हें चुनाव प्रचार से दूर नहीं रखा गया तो तुष्टीकरण के जिस प्रकार के उनके बयान होते हैं वह बयान हमेशा कांग्रेस को नुकसान ही पहुंचाते हैं। देखना है कि हाईकमान क्या चिदंबरम और दिग्विजय सिंह के साथ खड़ा है या फिर कमलनाथ के साथ?

patallok

leave a comment

Create Account



Log In Your Account