NEWS :

रमल विद्या के एक अध्याय का अवसान

रमल विद्या के एक अध्याय का अवसान

रमल विद्या के एक अध्याय का अवसान

नहीं रहे विद्वान पंडित वासुदेव शर्मा, आज निकलेगी अंतिम यात्रा
पालो रिपोर्टर = मंदसौर

ज्यातिष शास्त्र में हाथ की लकीरों और जन्म कुंडली के आधार पर भाग्य बताने वाले तो जिले में कई विद्वान हुए, लेकिन रमल विद्या (अभिमंत्रित पासे फैंककर भविष्य बताना) का अपना अलग ही जलवा रहा है। इसी रमल विद्या के पारंगत कहे जाने वाले शहर के विद्वान पंडित वासुदेव शर्मा ने इस फानी दुनिया को हमेशा-हमेशा के लिए अल्विदा कह दिया। दरअसल बिते कुछ दिनों से बीमार रहने के बाद उनने शनिवार को अंतिम सांस ली, आपकी अंतिम यात्रा 1 जुलाई दोपहर साढ़े 12 बजे निकलेगी।
शहर की पुरानी बसाहट खानपुरा के निवासी पंडित वासुदेव शर्मा ने लंबे समय तक रमल विद्या में अपना सीक्का जमाए रखा। रमल विद्या में लंबे अरसे तक उनका कोई साहनी नहीं रहा। ज्योतिष शास्त्र और कर्मकांड के मामलों में भी वे अच्छे जानकारों की श्रेणी में शुमार थे। शनिवार को 90 वर्ष की आयु में अल्प बीमारी के बाद उनने अपने प्राण त्यागे। रमल विद्या के जानकारों का यह भी कहना है, कि पं शर्मा का यों चले जाना रमल विद्या के एक अध्याय का अवसान है। आपके निधन की खबर ने ब्राम्हण समाज सहित ज्योतिष कला व रमल विद्या के क्षेत्र में शोक की लहर फैला दी। आप अपने पीछे एक भरा-पूरा परिवार छोड़ गए। आपकी अंतिम यात्रा एक जुलाई दोपहर साढ़े 12 बजे आपके निवास स्थान भादविया गली खानपुरा से प्रारंभ होकर खानपुरा मुक्ति धाम पर पहुंचेगी।

patallok

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account