जय किसान ऋण माफी की कार्यशाला आयोजित करें-कलेक्टर

जय किसान ऋण माफी की कार्यशाला आयोजित करें-कलेक्टर

जय किसान ऋण माफी की कार्यशाला आयोजित करें-कलेक्टर

अंतर विभागीय समीक्षा बैठक में दिए निर्देश

मन्दसौर। कलेक्टर मनोज पुष्प द्वारा साप्ताहिक अंतर विभागीय समीक्षा बैठक के दौरान निर्देश देते हुए कहा कि जय किसान ऋण माफी योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार हो, हर किसान को इसका लाभ मिले तथा किसानों के अंदर जन जागरूकता बढ़े। इसके लिए जिला स्तर पर एक वृहद कार्यशाला का आयोजन किया जाए। स्वाधिकार अभियान के अंतर्गत ग्राम सभाओं में जितने भी आवेदन प्राप्त हुए हैं। उन आवेदनों का संबंधित विभाग तुरंत निराकरण कर जानकारी प्रस्तुत करें। सीएम हेल्पलाइन अंतर्गत जिन जिन विभागों की एलएक्स, एलवाय लेवल की शिकायतें उनका जल्द से निराकरण करें। इसके लिए एक समीक्षा बैठक आयोजित की जाएगी। निराकरण न करने पर कार्यवाही की जायेगी। बैठक के दौरान पालन प्रतिवेदन प्रस्तुत करना होगा। बैठक के दौरान कलेक्टर मनोज पुष्प, अपर कलेक्टर अनिल कुमार डामोर सहित सभी जिला अधिकारी मौजूद थे।
पेंशन प्रकरणों में लापरवाही बरतने पर होगी सख्त कार्यवाही
बैठक के दौरान जिला पेंशन अधिकारी एवं सभी विभागों को निर्देश देते हुए कहा कि जिन-जिन विभागों के पेंशन के प्रकरण विचाराधीन है। विचाराधीन प्रकरणों का जल्द निराकरण करें। निराकरण न करने, लापरवाही बरतने पर सख्त कार्यवाही की जाएगी। पेंशन के सभी प्रकरणों को आगामी एक माह में तुरंत विभाग प्रमुखों से निराकरण करवाएं। ऐसे कर्मचारी जो आगामी माह में रिटायरमेंट होने वाले हैं। उन विभागों के अगर प्रकरण जमा नहीं होते हैं, तो उन्हें तुरंत नोटिस देवें। रिटायरमेंट से पहले कर्मचारी का क्लेम प्रकरण अनिवार्य रूप से भिजवाए। कृषि विभाग खाद-बीज के सैंपल लेकर उनकी जांच करें एवं जांच में गलत पाए जाने पर सख्त कार्यवाही करें। जिला योजना समिति की बैठक में जिन-जिन विभागों को शिकायतें निराकरण के लिए भेजी गई थी, उनका तुरंत निराकरण कर के पालन प्रतिवेदन प्रस्तुत करें।
जल शक्ति योजना का सम्मिलित प्रोग्राम तैयार करें-कलेक्टर
मन्दसौर। कलेक्टर मनोज पुष्प की अध्यक्षता में जल शक्ति योजना की बैठक नवीन कलेक्ट्रेट भवन में आयोजित की गयी। जल शक्ति योजना भारत सरकार की योजना है, जो कि संपूर्ण जिले के लिए हैं। इस योजना के माध्यम से जिले में वाटर लेवल बढ़ाने के लिए प्रभावी प्रयास किए जाएंगे। इस योजना के माध्यम से पेयजल से जुड़े सभी विभागों की सम्मिलित योजना तैयार की जाएगी। सभी विभागों के अपनी क्या-क्या योजनाएं हैं, कितना बजट है। इसके आधार पर कार्य होगा। इसके आधार पर जिले का जलस्तर बढ़ाने के लिए प्लान तैयार किया जाएगा। इस योजना के माध्यम से जल संरक्षण के पुराने स्त्रोतों को संधारित किया जाएगा। नवीन स्त्रोत की तलाश की जाएगी। सभी विभाग प्रयास करें कि किस तरह से जिले का वाटर लेवल बढ़ सकता है। इसके संबंध में सभी विभाग अपना अपना प्लान तैयार करें। किसानों को इस तरह से जागरूक करें कि कौन सी फसल बोये, सिंचाई किस तरह से करें। जिससे पानी का कम से कम उपयोग हो। पीएचई, आरईएस, जल संसाधन, ग्रामीण विकास, वन विभाग, पर्यावरण विभाग, कृषि विभाग एवं भू अभिलेख इसका प्लान तैयार करें। कलेक्टर मनोज पुष्प, अपर कलेक्टर अनिल कुमार डामोर सहित सामाजिक न्याय विभाग, पीएचई विभाग, आरईएस विभाग, पशुपालन विभाग, उद्यानिकी विभाग जिला पंचायत विभाग, सामाजिक न्याय विभाग, कृषि विभाग विभाग मौजूद थे।

patallok

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account