NEWS :

अब सीतामउ अस्पताल में अंध विश्वास

मंदसौर। जिला अस्पताल में बिते कुछ महिनों से आत्माओं को ले जाने का क्रम जारी था। अब यही क्रम ग्रामीण क्षेत्रों के प्राथमिक व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर भी प्रारंभ होने लगा है। इसी तारतम्य में मंगलवार को सीतामउ सरकारी अस्पताल में एक परिवार अपने किसी मृत पूर्वज की आत्मा लेने पहुंचा। विज्ञान की दृष्टि से सोचे तो यहां काफी देर तक अंध विश्वास का खेल चला।
आधा दर्जन हमलावरों ने बाइक छिनी
शामगढ़। सीतामउ क्षेत्र के करनाली-बागली मार्ग पर बाइक लेकर लोट रहे दो लोगों के साथ यहां घात लगाकर बैठ करीब आधा दर्जन बदमाशों ने हमला बोल दिया और बाइक छिनकर फरार हो गए। सूचना के बाद मौके पर पहुंची 100 डायल दोनों को सीतामउ लेकर आई और सरकारी अस्पताल में उपचार करवाया। घटना सोमवार रात करीब 9 बजे की बताई जा रही है। समाचार लिखे जाने तक मामले में सीतामउ थाने पर कोई केस दर्ज नहीं हुआ था।
कार की टक्कर से ऑटो चालक गंभीर
मंदसौर। शहर के कोर्ट रोड पर मंगलवार दोपहर एक तेज रफ्तार कार की टक्कर से ऑटो चालक गंभीर घायल हो गया, जिसे जिला अस्पताल ले जाया गया।
प्राप्त जानकारी के अनुसार ऑटो रिक्शा एमपी 14 आरए 0212 का चालक अमजद खान 38 साल निवासी कोलीवाड़ा शहर ऑटो लेकर जा रहा था। इसी दौरान सामने अंध गति से आ रहे कार चालक ने ऑटो को जबरदस्त टक्कर मार दी। हादसे में ऑटो चालक अमजद घायल हो गया, जिसका उपचार जिला अस्पताल में चल रहा है। देर रात समाचार लिखे जाने तक मामले में कोतवाली पर कोई केस दर्ज नहीं हुआ था।
दुष्कृत्य के दोनों आरोपी पुलिस गिरफ्त में
मंदसौर। शहर के इंदिरा कॉलोनी में तीन दिन पूर्व एक महिला को शराब अथवा कुछ नशीला पदार्थ पीलाकर उसके साथ दुष्कृत्य करने वाले दोनों आरोपियों की अधिकारिक गिरफ्तारी सोमवार को महिला के होश में आने की बाद की।
पुलिस के अनुसार घटना के बाद से ही महिला जिला अस्पताल में भर्ती थी और अचेत अवस्था में थी। महिला के होश में आने के बाद मंगलवार को उसके कथन हुए, जिसके आधार पर दोनों आरोपियों सूरज पिता राधेश्याम वाल्मिकी व दिलखुश पिता मांगीलाल वाल्मिकी की अधिकारिक गिरफ्तारी की गई। बता दें कि मामले को लेकर इंदिरा कॉलोनी में काफी हो-हल्ला भी मचा था।
खड़ावदा में रूकवाए दो बाल विवाह
मंदसौर। गरोठ क्षेत्र के ग्राम खड़ावदा में महिला एवं बाल विकास विभाग के दल ने दो बाल विवाह रूकवाए।
प्राप्त जानकारी के अनुसार सूचना के बाद मौके पर जब दल पहुंचा तो यहां दो लड़कियों की शादी हो रही थी। जिनकी उम्र 13 व 14 साल थी। इसके बाद 100 डायल को भी मौके पर बुलवाया व इसके बाद महिला बाल विकास अधिकारियों को भी नोट कराया। मौके पर पहुंचकर बाल विकास अधिकारी एवं एफआरबी स्टॉफ ने उक्त बाल विवाह रूकवाए।

patallok

leave a comment

Create Account



Log In Your Account