NEWS :

अनिल सोनी की उनके घर के बाहर नृशंस हत्या

अज्ञात हमलावरों ने किए तीन फायर, पहले भी हो चुकें थे उन पर हमले, परिवार का बुरा हाल
पूरे शरीर में दो दर्जन से अधिक छर्रे लगे, चलती आचार संहिता में प्रशासन के मुंह पर जड़ा बदमाशों ने जबरदस्त तमाचा, शहर में दहशत और सनसनी का माहौल
पालो रिपोर्टर = मंदसौर

जमीनी विवादों में खुन की होली खेलने वालों, गरीबों शोषितों पर अत्याचार करने वालों गुंडे, बदमाश तत्वों के खिलाफ पिछले कुछ सालों में जो एक आवाज अविभाजित मंदसौर जिले में उठी थी आखिर कार दो अज्ञात हमलवरों ने गोली के धमाके से उसे दबा ही दिया। दरअसल बुधवार रात उस वक्त शहर में सनसनी फैल गई, जब डायमंड ज्वेलर्स संचालक अनिल सोनी की उनके घर के बाहर गोली मारकर नृषंस हत्या कर दी गई। घटना के बाद जहां शहरभर में दहशत का माहौल फैल गया, वहीं चलती आचार संहिता में इस तरह का गंभीर अपराध जिला मुख्यालय पर होना अपने आप में प्रशासानिक आचार संहिता के प्रबंधन पर करारा तमाचा भी है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार अनिल पिता ….. सोनी निवासी चौधरी कॉलोनी नई आबादी अपने घर के बाहर गाड़ी से उतर रहे थे, कि अचानक बाइक पर आए दो अज्ञात हमलावरों ने उन पर एक के बाद एक तीन फायर कर दिए। तीनों फायर उनके सीने पर किए गए। इससे उनके शरीर पर सीने से लेकर जांघ तक करीब दो दर्जन से अधिक छर्रे लगे। हमलावर तत्काल मौके से फरार हो गए। इधर, एक के बाद एक तीन फायर की धाय-धाय आवाज सुनकर सोनी का परिवार भी सन्न रह गया और घर की गैलरी से नीचे झांककर देखा तो सोनी खुन में लथपथ सड़क पर गिरे पड़े थे। तत्काल परिजन व आस पड़ोसी उन्हें जिला अस्पताल लाए। यहां चिकित्सकों ने सोनी को मृत घोषित कर दिया। कुछ ही दे में घटना आग की तरह शहर में फैली और बड़ी संख्या में सोनी के स्नेहीजन व अन्य शहरवासी जिला अस्पताल पहुंचे। इस बीच सोनी के परिजन भी यहां पहुंचे और जबरदस्त विलाप करने लगे, जिससे माहोल गमगीन व मातम भरा हो गया।
दो साल पहले हुई थी पहली फायरींग
अनिल सोनी से दो साल पूर्व एक जमीन को लेकर कुछ गुंडा तत्वों का विवाद हुआ था, जिसमें बाद उनने उनकी कालाखेत स्थित संस्थान डायमंड ज्वेलर्स पर फायरिंग करवा दी थी। इसके बाद से ही अनिल सोनी खुलकर उनके खिलाफ मोर्चा खोल चुके थे और अनिल के इसी आक्रोश को उस वक्त और हवा मिली जब नीचम में उनके भाई अजय सोनी पर जानलेवा हमला हुआ, जिसके चलते अजय आज तक अपाहिज हैं। इसके बाद अनिल ने लगातार सोशल मीडिया से लेकर हर मंच पर इस तरह के तत्वों के खिलाफ खुलकर लड़ाई लडऩा प्रारंभ कर दी थी। इस हमले के पिछे भी सोनी के परिजनों ने एसे ही लोगों का हाथ होने की बात की है।
नवरात्रि में श्मशान पर जली नो चिता, 10वीं मौत अनिल की
इधर, मंदसौर शहर के लिए बुधवार को दिन काफी भारी रहा। दरअसल नवरात्रि में आए इस दिन शहर के श्मशन घाट पर एक के बाद एक नौ चिताएं प्रज्जवलित हुए। इसके संयोग कहें या कुछ ओर लेकिन इसे लेकर शहर में यह भी चर्चा रही कि नवरात्रि की नो ज्योत मुक्ति धाम में जल गई। दिनभर जली नो चिताओं के बाद रात को अनिल सोनी हत्याकांड के बाद मरने वालों का आंकड़ा 10 पर पहुंच गया।

patallok

leave a comment

Create Account



Log In Your Account