NEWS :

यातायात महकमे की अस्मत से खेलता विशाल

न जाने किस दबाव में यातायात अमला नहीं कर पा रहा कोई प्रभावी कार्रवाई, 100 डायल भी आई नोटिस की धमकी दी और चली गई
पालो रिपोर्टर = मंदसौर

शहर के यातायात अमले की आधी से अधिक इज्जत तो उन सफेद कबूतरों ने उतार रखी है, जो धानमंडी, बसेर चौक आदि स्थानों पर नो एंट्री में घुसने वाले ट्रक चालकों के हाथों 20-20 रूपट्टी में बिकते हैं। रही सही अस्मत बहार से आए विशाल मेगा मार्ट ने मंदसौर आकर बिगाड़ दी है। तमाम क्षेत्रवासियों सहित शहरभर के लिए यातायात के परिप्रेक्ष्य में सिरदर्द बन चुका विशाल मेगा मार्ट। बावजूद इसके यातायात अमला न जाने किस दबाव में यहां कोई प्रभावी कार्रवाई नहीं कर पा रहा है। जबकि अभी तो आचार संहिता चल रही है और एसे वक्त में तो प्रशासन चाहे जिसको टांग सकता है।
शहर के नयापुरा रोड पर खुले विशाल मेगा मार्ट नाम के शॉपिंग मॉल के चलते पहले से बद्तर हालात में पहुंच चुके नयापुरा का यातायात बद् से बद्तर हो चुका है। पहले यदि कोई वाहन चालक आरके हॉस्पीटल की ओर से आ रहा होता था और उसे गुप्ता कचौरी की ओर जाना होता तो वह जानकर भी गोल चौराहा वाला रास्ता इसलिए नहीं अपनाता कि बीच में सब्जी मंडी आदि का भीड़-भड़क्का रहता है और वह महराणा प्रताप बस स्टैंड घुमकर जाता था, लेकिन जब से यहां विशाल मेगा मार्ट का विशाल यातायात जाम लगने लगा है हर वाहन चालक के लिए यह रास्ता भी दुभर हो चला है। फिलहाल गर्मी के चलते दोपहर में तो फिर भी यहां यातायात का प्रेशर कम ही रहता है, लेकिन शाम ढलते ही इस मॉल पर बेतरतीब खड़े रहने वाले वाहनों के चलते जमकर जाम लगता है, जो रात करीब 11 बजे तक जस का तस रहता है। जबकि शाम से रात 11 बजे तक इस रोड का यातायात वैसे भी बढ़ जाता है। क्योंकि इसी वक्त सभी लोग अपनी संस्थानों, कार्यालयों आदि से घर को जाते हैं और नयापुरा ही एकमात्र सीधा रास्ता है जो शहर के मुख्य बाजारों को नई बसाहट से मिलाता है। खास बात यह है, कि विशाल मेगा मार्ट को तो चाहे जितना जाम लगे को रत्तीभर भी फर्क नहीं पडऩा है। क्योंकि उसके संचलाकों को तो चांदी काटने आगे फुरसत नहीं है, लेकिन इस पूरे घटनाक्रम में यातायात विभाग की इज्जत दाव पर लग गई है। अब यहां जाम में फसने वाले हर नागरिक को यातायात अमले से ही आस है, कि वे ही इसका कोई इलाज कर सकते हैं, लेकिन यातायात अमला भी एक अप्रत्यक्ष दबाव में यहां कोई कार्रवाई नहीं कर पा रहा है। अभी बिते शनिवार को ही 100 डायल यहां पहुंची थी, लेकिन इसमें सवार होकर आए एक पुलिस अधिकारी बस नोटिस की धमकी भर ही दे पाए और आज तक हालात जस के तस बने हुए हैं।
चौड़ी सड़क सकड़ी गली
कहने को तो विशाल मेगा मार्ट अच्छी खासी चोड़ी सड़क नयापुरा रोड पर स्थित है, लेकिन जब शाम ढलते ही यही चोड़ी सड़क विशाल मेगा मार्ट के सामने सड़क के दोनों छोर पर, आसपास की गलियों में व मॉल से करीब 100-100 मीटर दोनों ओर बेतरतीब पार्किंग से भरता है, तो एक सकड़ी सी गली बन जाता है, जिसमें से यहां से बड़े वाहनों को गुजरने में काफी दिक्कतें आती है और देखते ही देखते हर 20 मिनट से आधे घंटे में जाम की नौबत आ जाती है।
क्षेत्रवासियों को करना होगा तगड़ा प्रदर्शन
इस शॉपिंग मॉल से यदि सबसे अधिक कोई दु:खी है तो वे हैं इसके आसपास के रहवासी व दुकानदार जिन्हें अपने ही वाहनों को खड़े रखने के लिए जगह नहीं मिलती। यहां तक की यदि घर में कोई आसमानी सुल्तानी आ जाए तो जो वाहन पहले से खड़े हैं वे इतने घीर जाते हैं कि घर में वाहन होने के बावजूद उनका उपयोग तत्काल करना दूभर हो जाता है। एसे में विशाल के खिलाफ सबसे पहली आवाज इन्हीं लोगों को उठाना होगी और कुछ इस तरह का तगड़ा प्रदर्शन करना होगा, कि यातायात महकमा और प्रशासन इस समस्या को जड़ से खत्म करने पर विवश हो जाए। हालांकि फिलहाल जो भी किया जाए। उसमें आदर्श आचरण संहिता की गरिमा का पूरा ध्यान रखा जाए।
नेता नगरी को भी कोई परवाह नहीं
पुलिस व प्रशासन से पहले एक प्रजाति की और सबसे अधिक जिम्मेदारी जनता पर आने वाली विपदाओं को दूर करने की होती है वो है जनप्रतिनिधि और एसा भी नहीं है, कि शहर के जनप्रतिनिधियों को कुछ पता नहीं चल रहा है। पता सबको सब कुछ है, लेकिन ये मुद्दा एसा नहीं है, कि जिससे उनका कोई निजी हित सद सके। शायद इसीलिए अब तक किसी छुट भय्ये से लेकर कोई बड़ा नेता इस लड़ाई में जनता के साथ आकर खड़ा नहीं हुआ है। अन्यथा यही कोई एसा मुद्दा होता कि जिससे उनका कोई निजी हित सद रहा हो तो अब तक तो कांग्रेस हो या भाजपा दोनों ही दलों के नेता इसे भुनाने में कोई कौर-कसर नहीं छोड़ते।
आज से उठाएगें वाहन
हमारी ओर से विशाल मेगा मार्ट के संचालक को अब तक दो बार नोटिस दे दिए गए हैं, लेकिन हालात सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं और आम जनता के लिए वाकई यह स्थाई समस्या हो गई है। एसे में 10 अप्रैल से हम यहां खड़े वाहनों को जब्त करना प्रारंभ कर देंगे।
-धनंजय शर्मा
यातायात सुबेदार

patallok

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account