NEWS :

अफीम किसानों पर दोहरी मार

सीतामऊ। प्रकृति की मार के बाद अफीम किसानों पर नारकोटिक्स विभाग का कहर बरस रहा है जिससे किसानों को दुगनी आर्थिक मार का सामना करना पड़ रहा है।
उल्लेखनीय है कि अंचल के गांव लदुना सहित अन्य गांवों में ओलावृष्टि से किसानों की फसल तबाह हो गई थी किसानों ऊपर प्रकृति का कहर बरस पड़ा था किसान प्रकृति की मार से अभी सम्भल ही नही पाये उससे पहले अफीम काश्तकारों के ऊपर केंद्रीय नारकोटिक्स विभाग के अधिकारियों का कहर बरस पड़ा। जब ओलावृष्टि में तबाह हुई फसल के नष्टीकरण करने के विभाग की निरीक्षक राजकुमारी साहू व विभाग के कर्मचारी कुरेशी एवं उनकी टीम अफीम फसल के नष्टीकरण के लिए किसानों से पैसो की मांग कर डाली। लदुना में 19 मेसे 13 किसानों के पट्टे की फसल खराब हो चुकी है जिसकी नष्टीकरण करण मंगलवार को किया जा रहा था विभाग के अधिकारियों ने किसानों से प्रति पट्टे के नष्टीकरण के लिए तीन हजार रुपये की मांग अफीम कास्तकारों के मुखिया के माध्यम से की गई। जिन किसानों ने रुपये दे दिए उन किसानों का अफीम नष्टीकरण कर दिया गया। विभाग के अधिकारियों पर उक्त आरोप अफीम किसान गोविंद सिंह पंवार द्वारा मीडिया चर्चा में लगाए गए। सोमवार को मुखिया के मेरे पास फोन आया कि मंगलवार को सुबह आपका अफीम नष्टीकरण करने के लिए विभाग के अधिकारी आ रहे है। मंगलवार को पंवार के खेत पर मजदूर पहुंच गए। जब अधिकारी खेत पर पहुंचे तो उन्होंने मजदूर से अफीम नष्टीकरण करण के तीन हजार रुपये मांगे। मजदूर द्वारा मना करने पर पास के खेत की अफीम फसल को नष्टीकरण करण कर के चले गए। जब पंवार खेत पर पहुचे तो मजदूर द्वारा पूरी बात बताई। श्री पँवार द्वारा विरोध करने पर देर शाम उनकी अफीम नष्टीकरण विभाग के कर्मचारियों द्वारा की गई। पंवार का कहना है कि मेरे खेत पर अफीम फसल नष्टीकरण करण से पहले यह चार किसानों के खेतो पर पैसे लेकर अफीम फसल नष्टीकरण की गई है।

patallok

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account