NEWS :

हरदीप के भाजपा तो प्रियंका और गुणवंत की कांग्रेस में आमद की खबर में कितना दम

सियासी रंग में रंगी डंग की दहाड़?
जिपं. अध्यक्ष की होगी कांग्रेस में आमद?
गुणवंत का भी है गुणा भाग तगड़ा

मंदसौर। सुवासरा विधायक हरदीपसिंह डंग के भाजपा में शामिल होने को लेकर सोश्यल मीडिया पर चली खबरों को उन्होंने खुद ही खारिज तो कर दिया लेकिन इससे पहले भी ये खबर आती जाती रही है … पिछली बार तो यहां तक खबर उड़ी थी कि तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराजसिंह से उनकी ट्यूनिंग हो गई है और वे कभी भी भाजपा का दामन थाम सकते है … इस बात को बल देने के लिये यह तर्क भी दिया जाता था कि शिवराज हरदीप के क्षेत्र में विकास की योजनाओं को भी जल्दी हरी झण्डी दे देते हैं … हालांकि ऐसे विकास कार्यों का श्रेय पूर्व विधायक राधेश्याम पाटीदार खुद के खाते में बताते और प्रचारित भी करवाते थे जिसको लेकर डंग और पाटीदार में बयानी झड़पे भी हो जाया करती थी।
इस बार हरदीप के दल बदल करने की खबर में दम इसलिये भी कम लगता है कि प्रदेश में कांग्रेस की ही सरकार है लेकिन खबर चली है तो इसके हाथ-पाँव तलाशे जा रहे है … सूत्र बताते है कि इस तरह कि खबर के पीछे रणनीति है और वह भी एक नहीं दो-दो … हरदीप प्रदेश सरकार और आला नेताओं पर मीनाक्षी नटराजन को टिकट देने की बात कर रहे है ताकि वे इस कद्दावर नेत्री का विश्वास खुद के प्रति मजबूत और बेजोड़ रहने दे … दूसरा पहलू यह भी है कि विधायकों की गिनती में कमजोर प्रदेश सरकार पर दबाव बना दिया जाए कि उन्हें (हरदीप को) मंत्री मंडल में स्थान मिल जाय? पिछली बार पूरे सम्भाग और इस बार पूरे संसदीय क्षेत्र में इकलोती जीत के वारिश बने हरदीप इतना तो प्रदेश सरकार से चाहत रख ही सकते है … सो लगता है इस बार ये मुण्डा ‘भय बीन होय न प्रीत गोपालÓ की थीम को पकड़े हुए है। देखना दिलचस्प होगा कि हरदीप की यह रणनीति कब, कितनी औैर कैसे कामयाब होती है। जानकार बताते है कि हरदीप अब सियासत में पारंगत हो आड़े-टेड़े और कब कैसे ढाई घर चलना है को लेकर चतुर सुजान हो गये है।
इधर हरदीप के भाजपा में शामिल होने की रूकती चलती खबरों के बीच जिला पंचायत अध्यक्ष प्रियंका-मुकेश गोस्वामी के भाजपा से कांग्रेस में शामिल होने की चल रही पनडुब्बी मुवमेंट के क्लीयर होने को लेकर भी गहराई को टटोला जा रहा है! कहने वालों का कहना है कि कब क्या हो सकता है इसका कोई भरोसा नहीं, सूत्र बता रहे है कि इस खबर को लेकर भी भाजपा के बड़े नेताओं की दृष्टि प्रियंका-मुकेश पर लगी हुई है क्योंकि यह तोड़ फोड़ ऐन लोकसभा चुनाव के पहले होती है तो संसदीय क्षेत्र में भाजपा को बड़ा नुकसान हो सकता है … हालांकि इस बात को भी मुकेश-प्रियंका एक सिरे से खारिज तो करते है लेकिन बदलते रंगों की सियासत में कब अदला बदली के रंग कि होली आ जाये इसका भरोसा नहीं।
जिला पंचायत के ही उपाध्यक्ष गुणवंत पाटीदार को लेकर भी खबर चल रही है कि वे कभी भी कांग्रेस का दामन थामकर भाजपा को बाय-बाय कर सकते है … गुणवंत पाटीदार की किसानों में अच्छी घुसपैठ है अफीम काश्तकारों को इकट्ठा करने के वे स्पेशलिस्ट माने जाते है … इनका दर्द यह बताया जाता है कि किसान आंदोलन के दौरान भाजपा ने इनका दोहन किया … समय-समय पर इनका भाजपा द्वारा दोहन हुआ लेकिन जब गुणवंत को पार्टी के नेताओं की जरूरत लगी तो इन्हें कोई तवज्जों नहीं दी गई … अब गुणवंत के समर्थकों के यह उदगार कितनी हकीकत और कितना फसाना रखते है इसका टेस्ट तो गुणवंत के इधर (भाजपा) से उधर (कांग्रेस) में शामिल होने पर होगा।

patallok

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account