NEWS :

इंसाफ के लिए भटकती गरीब बेटी की मां

मामला: कर्मचारी कॉलोनी में युवती की आत्महत्या का
रईस आशिक पुलिस की गिरफ्त में, लेकिन प्यार में आग लगाने वाले आशिक के दो मामा को बक्श रही पुलिस
पालो रिपोर्टर = मंदसौर

शहर के नयापुरा रोड स्थित कमर्चारी कॉलोनी में एक गरीब की बेटी द्वारा आत्महत्या कर लेने के मामले में लगता है उसकी मां इंसाफ के लिए दर-दर भटक रही है। हालांकि पुलिस ने आत्महत्या के लिए प्रेरित करने वाले मृतिका के रईसजादे आशिक को तो गिरफ्तार कर लिया, लेकिन मृतिका व उस रइस आशिक के बीच पनपे अटूट प्रेम में अमीरी का जहर घोलकर मृतिका को आत्महत्या का रास्ता दिखाने के लिए मजबूर करने वाले असल आरोपी आशिक के दोनों मामा को शहर पुलिस बक्श रही है। जबकि मृतिका की मां सहित पूरा परिवार स्पष्ट कह रहा है, कि उनकी बेटी कोई मौत के मुंह में धकेलने की व्यूह रचना ही इन लोगों ने रची थी।
दरअसल एक मार्च की सुबह करीब 11.30 बजे अमरीन पिता महरूम युसूफ शाह 18 साल निवासी कर्मचारी कॉलोनी नयापुरा रोड अपने टूटे-फूटे आशियाने में फांसी पर झूलती मिली, जिसे देख परिजनों के होश उढ़ गए। मामले में तफ्तीश व परिजनों के बयान में पुलिस ने पाया कि अमरीन का पिछले पांच साल से उसी के मोहल्ले में रह रहे युवक अकबर पिता अन्नू शाह से प्रेम प्रसंग चल रहा था। घटना के आधे घंटे पूर्व अकबर ने अमरीन को घर आकर यह कहा था, कि मैं तुझ से शादी नहीं कर सकता तू बहुत गरीब है और मैं अमीर हूं। इस पर अमरीन ने जवाब दिया था, कि मैं तुम्हारे बिना मर जाउंगी, लेकिन पर अपनी रईसी का नशा कुछ इस कदर सिर चढ़कर बोल रहा था, कि उसने अमरीन को यह तक कह दिया कि मर जा मरना हो तो और यह कहकर चल दिया। किसी को भनक भी नहीं थी, कि अमरीन अपने इस सच्चे प्यार की किमत अपनी जान देकर चुकाएगी और घर में अकेली अमरीन ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। यह कहानी यहीं खत्म नहीं हुई। क्योंकि परिजनों को ये अच्छे से पता था, कि अमरीन को हर हद तक चाहने वाला अकबर इस तरह उसे छोड़कर नहीं जा सकता। परिजनों ने पता किया तो पता चला कि अकबर को एसा कहने के लिए उसके दोनों मामा एजाद पिता हमीद शाह व अशवाक ने उकसाया था। क्योंकि वे दोनों नहीं चाहते थे, कि उनका भांजा किसी गरीब की बेटी से ब्याह रचाए और इसी प्रेम प्रसंग के कारण अकबर ने अपने दो रिश्ते ठूकराए थे। बस यह टीस दोनों मामा के दिल में चूभ रही थी और उनने अकबर को इस हद तक उकसाया कि अकबर ने अपनी प्रेमिका को मौत के मुंह में धकेल दिया। अब करीब 18 दिन बाद पुलिस ने अकबर को तो गिरफ्तार कर लिया, लेकिन परिजनों के बयानों के अनुसार उसके दोनों मामा को बक्शा जा रहा है। गरीब अमरीन की मां विधवा जोहरा बी अपनी बेटी की रूह की तसल्ली के लिए उन हैवान मामाओं की गिरफ्तारी के लिए कोतवाली के चक्कर काट रही है, लेकिन यहां के जिम्मेदार उसके साथ न्याय करने की बजाय यह कहते सुनाई दे रहे हैं, कि जिसने धमकाया था उसी को गिरफ्तार करेंगे। जबकि मंगलवार शाम तो यहां तक हद हो गई कि अकबर के दोनों मामा ने इस गरीब मां को थाने में ही देख लेने की धमकी तक दी। इधर, मामले में एसपी विवेक अग्रवाल का कहना है कि अभी विवेचना जारी है यदी लड़के के मामा भी इसमें है तो उन्हें भी गिरफ्तार किया जाएगा।
3 साल की थी जब गुजर गए पिता
अमरीन की मां ने पालो रिपोर्टर को रूंधियाती आंखे लिए यह दास्तां सुनाई कि अमरीन महज 3 साल की थी तब उसके पिता गुजर गए थे। अमरीन सहित 6 बेटे-बेटियों को उसने मजदूरी कर-करके पाला-पौसा। आज जोहरा अपनी दो बेटियों के साथ कर्मचारी कॉलोनी में अपने टूटे-फूटे मकान में अकेली रहती थी, जिसमें से अमरीन ने फांसी लगा ली और उसके चार भाई पहले ही अलग रहते हैं जो मकान निर्माण में मजदूरी करते हैं, वहीं जोहरा भी कभी ईंट भट्टे पर तो कभी कहीं मजदूरी करके अपना पेट पालती है।

patallok

leave a comment

Create Account



Log In Your Account