NEWS :

सब इंस्पेक्टर खान के हत्थे चढ़ा तस्कर

मामला: 3 माह पूर्व मंदसौर नार्कोटिक्स विंग से फरार हुए तस्कर का
मामले में मौके से फरार उक्त आरोपी का साथी भी लगा हाथ
पालो रिपोर्टर = मंदसौर

महू-नीमच राजमार्ग मुल्तानपुरा फंटा स्थित नार्कोटिक्स विंग से फरार तीन माह पूर्व फरार हुआ आरोपी हाल ही में इंदौर से नीमच नार्कोटिक्स प्रकोष्ट में आए सब इंस्पेक्टर रउफ खान के हत्थे चढ़ गया है। इतना ही नहीं मामले में नार्कोटिक्स मंदसौर की इस कार्रवाई में मौके से फरार उक्त आरोपी का एक अन्य साथी भी नीमच नार्कोटिक्स ने राउंडअप कर लिया है। गौरतलब है, कि मंदसौर विंग से इस तरह आरोपी के फरार होने पर विंग के जिम्मेदारों की अच्छी खासी फजीहत हो गई थी और मामले में वायडी नगर थाना पुलिस को भी आरोपी की सरगर्मी से तलाश थी। क्योंकि फरारी का केस इसी थाने में दर्ज हुआ था।
नार्कोटिक्स अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अजयकुमार शर्मा ने बताया कि महू-नीमच राजमार्ग स्थित बोतलगंज घाटी पर सेंट्रो कार आरजे 14 सीजी 4456 से मंदसौर नार्कोटिक्स विंग ने 24 दिसंबर 2018 को रामनिवास पिता मोहनलाल मालवीय निवासी मैलानखेड़ा जिला नीमच को 12 किलो अफीम के साथ गिरफ्तार किया था, वहीं उसका एक साथ गोविंद रावत मीणा निवासी पिपलिया चारण मौके से फरार हो गया था। बाद में आरोपी को मंदसौर नार्कोटिक्स विंग के कार्यालय पर रखा गया था। यहां से वह रात को फरार हो गया। इसके बाद से ही मंदसौर नार्कोटिक्स विंग के जिम्मेदारों से लेकर मैदानी जवानों तक की अच्छी खासी फजीहत हो गई, किंतु आरोपी हाथ नहीं आया। मामले में वायडी नगर थाने पर पुलिस हिरासत से आरोपी के फरार होने का केस दर्ज करवाया गया। उक्त मामले में नार्कोटिक्स का मुखबीर तंत्र भी लगातार सक्रिय था, जिसके चलते नीमच नार्कोटिक्स प्रकोष्ट के उप निरीक्षक रउफ खान ने आरोपी रामनिवास व गोविंद को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उनकी 21 मार्च तक की पीआर स्वीकृत हुई है। उक्त कार्रवाई में प्रआ केके परिहार, आरक्षकगण दशरथसिंह, शंभुसिंह हाड़ा, दीपक पटेल, नंदकिशोर वर्मा, इंद्रेशसिंह, लाखनसिंह हाड़ा संराहनिय योगदान रहा। अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक ने उक्त टीम को पुरूस्कृत करने की घोषणा भी की है।
चैन्नई रोड पर देते थे माल
सूत्रों की माने तो रामगोपाल व गोविंद दोनों ही अक्सर विशा पत्तनम्, बेंगलूरू आदि महानगरों में माल की डिलेवरी के लिए आते-जाते रहते थे। उक्त 12 किलो अफीम वे बेंगुलूरू के चैन्नई रोड पर किसी मिश्रीलाल नाम के तस्कर को देने वाले थे, जो इससे पूर्व भी चैन्नई रोड पर आकर इन लोगों से माल ले जा चुका है। यह 12 किलो माल खुद रामगोपाल का होना बताया जा रहा है। इसी तरह किसी बंजारे का नाम भी मामले में आ रहा है, जो इन्हें माल देता था और ये कुरियर के रूप में काम करते थे। हालांकि इस तरह के किसी पाईंट की फिलाहल नार्कोटिक्स के जिम्मेदारों ने अधिकृत पुष्टि नहीं की है। आरोपियों रिमांड अवधि के दौरान उनके माल किस का था और किसे देना था आदि बिंदुओं की पूछताछ की जाना है।

मंदसौर ने भी की कार्रवाई
इधर, नार्कोटिक्स की मंदसौर विंग ने भी अवैध मादक पदार्थ तस्करी करते दो अलग-अलग मामलों में तीन तस्करों को गिरफ्तार किया है। एएसपी मीना चौहान(शर्मा) ने बताया कि सीतामउ रोड स्थित बंजारी बालाजी मंदिर से 2 किलो 200 ग्राम अफीम के साथ लक्ष्मीनारायण पिता प्रभुलाल पाटीदार निवासी रावटी को गिरफ्तार किया गया। इसी तरह मंदसौर-भालोट रोड से गुजर रही वेन एमपी 14 सीबी 0974 को अमलावद फंटे पर रोककर उसकी तलाशी ली तो वेन से 68 किलो डोडाचूरा जब्त हुआ। इस मामले में दो आरोपी पवन पिता जगदीश भावसार व विजय पिता दयाराम दोनों निवासी राकोदा थाना भावगढ़ को गिरफ्तार किया गया।

patallok

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account