राष्ट्रवाद की अलख जगाकर जीत दिलाने वाले छः दिन से वजूद की लड़ाई

मंत्री जी के क्षेत्र में ये बीजेपी की हार है

सीतामऊ। भाजपा सरकार में कहने को हिंदूवादी सगठनों की तगड़ी चलती है पर सुवासरा विधानसभा क्षेत्र की स्थिति ठीक इसके उलट है,यहाँ राशन की कालाबाजारी करने वालो को पकडाने के बाद भी उनपर लगभग एक माह सात दिन बाद भी कार्यवाही नही होने से नाराज कार्यकर्ता को मजबूरी में धरने पर बैठना पड़ रहा है।

ये वही कार्यकर्ता है जो चुनाव के वक्त रात रात भर जागकर राष्ट्रवाद की दुहाई देकर सत्तारूढ़ दल के लिए लोगो को मनाते है,इसी का नतीजा भी रहा कि विधानसभा में भाजपा लगभग 30 हजार वोटो से जीती थी।10 फरवरी को एक तौल काटे पर 15 बेग गरीबो को बटने वाला शासकीय गेंहू,ओर चावल ,पकड़ाए थे,व संदिग्ध गोदाम में भी सेकड़ो कट्टे शासकीय चावल,व गेंहू पड़े थे जिनकी पुख़्ता जानकारी हिन्दू संगठन से जुड़े कार्यकर्ताओ के पास थी,तत्काल पुलिस की टीम एव नायब तहसीलदार द्वारा पंचनामा बनाकर मोके पर चाबी नही होने का हवाला देकर गोदाम सील किया गया था,जिसकी वीडियो रिकार्डिंग मीडिया के माध्यम से भी चली,तहसीदार महोदया ने बाइट देकर कहा था हमने गेंहू पकड़ा और गोदाम सील किया है। खुद तोल काटा व्यपारी ने भी कबूला की उसके यहाँ शासकीय वितरण का गेंहू ड्राइवर द्वारा उतारा गया है।

इसके बाद आनन फानन में रात के अंधेरे में अधिकारियों द्वारा बिना हिन्दू समाज के कार्यकर्ताओं को सूचना दिये गोदाम की सील तोड़कर जांचकर क्लीन चिट दे दी गयी।साथ ही 15 कट्टे गेंहू ओर लगभग 15 क्विंटल का गेंहू का ढेर जो शासकीय गेंहू था गायब कर दिया गया।

इसबात की जानकारी लगने पर सड़क जाम का कार्यकर्ताओ ने गुस्सा दिखाया था तो मंत्री डंग ने 5 दिन में कार्यवाही का भरोसा दिलाकर शांत कर दिया गया।

आज आज दिनांक तक भी दोषी ठेकेदार,परिवहन करने वाले ड्राइवर, तोल काटा मालिक और रातों रात सील तोड़कर गेंहू गायब कराने वाले अधिकारियों पर कार्यवाही नही होने से मजबूरन हिन्दू संगठन के कार्यकर्ताओं द्वारा लदुना चौराहे पर 6 दिन से धरना दिया जा रहा है।

इस अवसर पर युवा संघर्ष समिति के संयोजक अरविंद चौहान नानालाल पाटीदार नरेश परमार जीवन राठौर श्याम हटेला लदुना गंगाधर शर्मा महेंद्र सिंह नकेडिया मोहन सिंह पतला राकेश लदुना ईश्वर साहू नंदकिशोर शर्मा जगदीश बालेश्वर पाटीदार अर्जुन पाटीदार दीपक शर्मा राजेश बैरागी बजरंग दल के जिला संयोजक दिग्विजय सिंह चौहान सुरेश परमार नीलेश शर्मा एवं बड़ी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित रहे।